गुरुवार, 14 अप्रैल 2011

शिक्षा

सुबह सवेरे जल्दी उठकर
बच्चो संग बच्चा बन जाता
वो कांधे पानी को टांगे
और मै कांधे पर बस्ता लाता
वो शिक्षा पाने को जाते
मै खुद को शिक्षित था पाता
शिक्षा का महत्व बताने
सामाजिक दायित्व निभाता
जब भी कहीं अवसर मिलता
मै अपनी चालीसा स्वयं गाता
चंद चाहने वाले उकसाते
क्यूँ न मै मंत्रालय जाता
वहां स्थापित अस्थाई लोगों को
अपने से परिचय करवाता
आशा पाऊं समाजसुधारक
जैसा एक परिचय मै उनसे 
जूते प्रतिदिन घिसने का
अपना ये नियम भी निभाता
आज गया तो बाबु बोला
बधाई साहिब मारा मैदान
तमगा मिलेगा हुआ ये पक्का
आपका पारित हुआ है नाम
मै भूल के अपनी दिनचर्या
बात मे बैठा छोड़ सब काम
आज बड़ा शुभ दिन ये आया
हर जिव्या पर अपना नाम पाया
समाज को देने निस्वार्थ शिक्षा
हम सम्मानित हो रहे थे
स्वयं को सबसे अच्छा बतलाकर
अपने आप को खो रहे थे
करने को अपना विज्ञापन
एक शाम हमने तय किया
चंद हाँ मे हाँ कहने वाले को
खाने पिने पर एकत्र किया
अपनी बड़ाई न छोड़ी कोई
बड़ बड़ाई हम सम न कोई   
नन्हा जब पानी संग बर्फ लाया
हमने पढाई का महत्व समझाया
रात क्या हुआ था
क्या किसे कहा था
ये तो याद न था
पर नन्हा काम छोड़ चूका था
पत्नी ताना कस रही थी
अपनी तपस से बर्तन घस रही थी
समय न थमा न उम्र थमी
सरकारी कुर्सी न थमी 
आज बिदाई दफ्तर से
नए अफसर को आना था
आँखे कमज़ोर
पर चेहरा लगा पुराना था
ज्यूँ ही वो झुका
आँखे फिर धोखा दे छलक गई
वो बोला बाबूजी नन्हे को शिक्षा आपकी थी
जो लग गई और आज आपके समक्ष झुक कर
नन्हे की शिक्षा पूरी हुई
आँखे सुखी दिल रोता था
वो बात तो अपनी बड़ाई थी
असली शिक्षा नन्हे ने नहीं
नन्हे से मैंने पाई थी
एक टिप्पणी भेजें