शुक्रवार, 14 दिसंबर 2018

कसक रह गई


कुछ भी तो ना चाहा पर कसक एक रह गई बाकी
मुहाफ़िज़ समझा जिसे विरोधियों का सरदार निकला



एक टिप्पणी भेजें