मंगलवार, 21 जून 2011

नई कोपल

माली को खबर 
फूल मुर्झा रहे हैं
पतझड़ आया 
पेड़ पत्ते टपका रहें हैं

अब समय 
नई कली संग कोपलों का 
पुराने समय से 
जा रहें हैं
 
एक टिप्पणी भेजें