गुरुवार, 29 मार्च 2012

प्यार हो गया

रिश्ता चैन से टूटे
निंदिया नयन से छूटे
तो समझो प्यार हो गया

जो रहे तू खोया खोया
जग लगे तुझे सोया सोया
बंधन बांध न पाए
बांध सब्र का टूटे
तो समझो प्यार हो गया

सह सके न पल की जुदाई
बस देती ही रहे दिखाई
पलक तू पल भी न झपके
लगे कोई लेगा लूट
तो समझो प्यार हो गया

झूठ से दोस्ती हो जाये
अपनों से आँख चुराए
हर बात पर धडके दिल
कहीं ये न जाए टूट
तो समझो प्यार हो गया


रिश्ता चैन से टूटे
निंदिया नयन से छूटे
तो समझो प्यार हो गया







  
एक टिप्पणी भेजें