रविवार, 8 अगस्त 2010

लिखा

लेखन लिख लिख सब गए, लिखा कभी  नहीं  जाये
जो लिखा पढ़ तुम भी लिखो लिखा सफल हो जाये
एक टिप्पणी भेजें