शुक्रवार, 10 अक्तूबर 2014

क्यों भूल गया जो था सहा


 मुझे याद क्यूँ ना कुछ रहा
भूल गया क्यूँ कल का सहा

पानी मे वो प्रतिबिम्ब था
प्रतिबिम्ब मुझसे कहा
जो तुझमे है वो उड़ेल दे
हर्फों के सबको खेल दे
तेरी वेदना या चेतना
उसमे हो तेरा लिखा सना
जो पाया मैंने संचय किया
लिखने बैठा जो था सहा
पर हाय रे यह क्या हुआ
फिर भूल गया कल का सहा
 
एक बार फिर एक राह दिखी
मरू मैं बैठा लिखने अपनी लिखी
अंतर्मन मैंने फिर छुआ
बचा कूचा रचने हर्फ़ नया
मरू की शांति संग थी
मेरी वो भ्रान्ति तंग थी
मै लिखता जाता हर कण में
वो छुपता जाता हर क्षण मे
मैं पुनः जो बैठा लिखने को
पर हाय रे यह क्या हुआ

फिर भूल गया कल का सहा
एक टिप्पणी भेजें