सोमवार, 16 जनवरी 2012

अपराजिता

करुणा
बन अपराजिता
अर्पण कर
समर्पण जगा
बेल सी लिपट
वृक्ष निगल गई     
एक टिप्पणी भेजें