बुधवार, 24 अगस्त 2011

चमकेगा तेरा नाम रे

पंक्ति लम्बी, भीड़ बड़ी है
तुमसे पाने को वरदान रे
मै भी कुछ मांगना चाहता
मुझको समझ न ज्ञान रे
कोई कहता धन तू मांग
कोई वैभव का वरदान रे
मेरी बुद्धि काम न करती
हो गई बिलकुल जाम रे
मेरा नंबर जब आगे बढ़ता
मेरे घटते जाते प्राण रे
नंबर आया क्या मांगूंगा
गले में अटकी जान रे
एक आया मुझको समझाने
तू मांग अभय वरदान रे
सोचा जीना है अभिशाप
क्या करूंगा रखकर प्राण रे
तभी मेरा एक वंशज आया
बोला बन जाओ धनवान रे
धन रखना मुश्किल जग में
कैसे उसका रखूँगा ध्यान रे
अमीरी का झोंका भी आया
मांग तू रहना आलिशान रे
मेरा आधा अंग भी आया
बोला क्यूँकर भौतिक मांग रे
माँगना है तो तुम मांगो
रहे सदा प्रभु का ध्यान रे
जाना आना लगा रहेगा
ना जाए तुम्हारा नाम रे
ज्यूँ ही मेरा नंबर आया
कुछ न सुझा ज्ञान रे
बस मै झुकता चला गया
प्रभु दर्शन ही वरदान रे
बोले तू चतुर है प्राणी
जा कर अच्छे काम रे
चाहे जग में कुछ न चमके
चमकेगा तेरा नाम रे
चमकेगा तेरा नाम रे
एक टिप्पणी भेजें