गुरुवार, 10 फ़रवरी 2011

अंतिम हिसाब

ना जुलुस ना समारोह फिर यह कैसा सैलाब है
राजीव हमारे पाप पुण्य का ये अंतिम हिसाब है
एक टिप्पणी भेजें