रविवार, 15 दिसंबर 2013

निगोड़ा

कैसा निगोड़ा कलयुग ये आया
कलम दवात कागद सब खाया 
एक टिप्पणी भेजें