शनिवार, 11 फ़रवरी 2012

?

उदास हूँ तुमेह ही क्यूँ दिखा,
                 चेहरा खिला रहता है ज़माना कहता है
छिपा अश्क तुमेह ही क्यूँ दिखा 
                  रोतों को हँसाता हूँ ज़माना कहता है   
एक टिप्पणी भेजें