रविवार, 6 जून 2010

हमारा धर्म

आओ सुनाऊं तुमेह एक कहानी
राम रहीम की थी दोस्ती पुरानी
चक्रम घंचक्रम चक्कर में रहते थे
राम रहीम से लड़ते रहते थे
राम रहीम का बस ध्येय था पढना
सब को पछाड़ के आगे ही बढ़ना
चक्रम घंचक्रम नालायक थे बड़े
नफरत पाते रहते अलग थलग पड़े
चक्रम घंचक्रम ने चाल एक चली
राम रहीम पे फेंकी जात की डली
मच गई चहूँ ओर यह कैसी खलबली
सब तरफ दुआओं की एक हवा चली
राम रहीम न एक पाठ सिखाया
ईद और दीप को फिर मिल के मनाया
दोस्ती दोनों की मिसाल बन गई
चक्रम बन्धुओं की खिली उड़ गई
आओ उठाएं हम भी यह कसम
भारतीय हम हम सब एक धर्म
दोस्तों तुम भी सुनाना ये सबको कहानी
राम रहीम की थी दोस्ती पुरानी.....
एक टिप्पणी भेजें