रविवार, 6 नवंबर 2016

विचार

पर्वत पर कहाँ फूल खिलें
कहाँ वृक्ष बढे चट्टानों में
आज जिंदगी बोल रही

शांत हुए शमशानों में 
एक टिप्पणी भेजें