मंगलवार, 2 नवंबर 2010

ओशो

ओशो बस एक नाम नहीं 
उस नाम मे छिपा धाम है 
मुक्ति का एक मार्ग है वो
मद मस्त जीवन जाम है
एक टिप्पणी भेजें